नशे पर कविता हिंदी में।

Nashe Par Kavita In Hindi

नशे पर कविता हिंदी में







'बेवफ़ा हूँ' ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

नशे की तस्करी क़ानूनी और ग़ैर - क़ानूनी दोनों तरीक़ों से देश में चल रही है और सरकार हर बार ये कहती है कि वो जीतने के बाद नशा जड़ से मिटा देगी पर कोई भी सरकार जीतने के बाद कुछ नहीं करती सरकार सिर्फ़ अपनी जेबों के बारे में सोचती है और कुछ नहीं लॉक - डाउन के बीच जब शराब के ठेके खुले थे तो लोग पांच सौ करोड़ की शराब ही पी गए थे। सरकार नशा तस्करों को नहीं पकड़ सकती क्यूंकि सरकार की कमाई इससे रुक जाएगी और ये नशा बेचने वाले लोग कोई और नहीं होते बल्कि घर का ही कोई भेदी होता है जिसको साडी बातों का पता होता है। दोस्तों नशा मत कीजिये अपने जीवन को संभाल के रखिये। 

Nashe Par Kavita In Hindi

नशे पर कविता हिंदी में

नशा ना करना नशा ज़हर है


नशा इस तरह बिक रहा है देश में,

कि हर दिन गुज़र रहा है क्लेश में,

कैसे निज़ात पा सकेंगे हम इस रोग से,

मैं बताने जा रहा हूँ इस संदेश में। 

-------*******-------

आता है कहाँ से, कैसे है आता,

लगता है कोई अपना ही बिक जाता,

साज़िश है उनकी जो सफ़ेद कपड़े वाले,

अपने जुर्म को हैं कुर्सी के नीचे संभाले,

कभी उनके बच्चे भी आएंगे इसकी लपेट में,

मैं बताने जा रहा हूँ इस संदेश में,

नशा इस तरह बिक रहा है देश में।

-------*******-------

सरकार की कमाई है करोड़ों शराब से,

फ़िर कैसे मिटाएं वो इसको पंजाब से,

मैं बात तो कर रहा हूँ सारे ही देश की,

जो असली है समझा उस नकली वेश की,

इनका साथ मत दो तुम इनके फ़रेब में,

मैं बताने जा रहा हूँ इस संदेश में,

नशा इस तरह बिक रहा है देश में।

-------*******-------

इस देश में पैसा है विदेशों से ज़्यादा,

जो सरकार कर लेती है आधा - आधा,

और जनता को मिलते हैं झूठे दिलासे,

या भाषण की बोली के मीठे बतासे,

और जनता है आई ठगों के आदेश में,

मैं बताने जा रहा हूँ इस संदेश में,

नशा इस तरह बिक रहा है देश में। 

Nashe Par Kavita In Hindi

नशे पर कविता हिंदी में

कविता को पढ़ने के बाद आपको कविता कैसी लगी अपने विचार हमारे साथ सांझा करें और हमें बताएँ कि हम अपनी कविताओं में और क्या सुधार ला सकते हैं : -

ईमेल : - blogbewafahoon@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ