भगवान पर भक्ति कविताएँ हिंदी में।

 Devotional Poems On God In Hindi
 
भगवान पर भक्ति कविताएँ हिंदी में



'बेवफ़ा हूँ' ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

दोस्तों आप सब की मांग पर मैंने कुछ धार्मिक कविताओं को लिखना शुरू किया है और मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सब को ये मेरी नई क़ोशिश पसंद आएगी। आज की ये कविता प्रभु 'यीशु मसीह' के ऊपर है। प्रभु 'यीशु मसीह'  अल्लाह के पैगंबरों में से एक हैं जिनका ज़िकर बाइबल और क़ुरान में मिलता है। मैं जानता हूँ कि प्रभु 'यीशु मसीह' जी को मानने वाले दुनियां में बहुत हैं मगर उनका सच्चा अनुयाई वही है जो उनके कथनों पर अमल भी करता है। दोस्तों चलिए आज प्रभु 'यीशु मसीह' जी की महिमा का गुणगान करें और पढ़ें आज की ये कविता।

Devotional Poems On God In Hindi
 
भगवान पर भक्ति कविताएँ हिंदी में

हिंदी ईसाई कविताएं

-------*******-------

ग़रीबों का मसीहा तू,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु,

तू मेरा है मैं तेरा हूँ,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु,

मुसीबत जब भी आती है,

तुझे हम याद करते हैं,

तू हमारा है परमपिता,

तुझी पर नाज़ करते हैं,

तेरी तारीफ़ में ये कहूँ,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु।

-------*******-------

तेरे चरणों में धरती है,

तेरी आँखों में हैं अंबर,

तू ही मालिक है जन्नत का,

सारी दुनियां तेरे अंदर,

तेरा गुणगान करता रहूँ,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु,

ग़रीबों का मसीहा तू,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु।

-------*******-------

जो माना तुझको माना है,

क्यूंकि हम बच्चे हैं तेरे,

तूने जो रौशनी करदी,

मिटे पापों के अँधेरे,

मैं क्युँ फ़िर पापियों से डरूँ,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु,

ग़रीबों का मसीहा तू,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु।

-------*******-------

तूने अंधों को रौशनी दी,

तूने लंगड़ों को चलाया है,

मुझे दी शक्ति लिखने की,

नाम 'यशु जान' दिलाया है,

तेरी महिमा को लिखता रहूँ,

 प्रभु यीशु, प्रभु यीशु,

ग़रीबों का मसीहा तू,

प्रभु यीशु, प्रभु यीशु।

-------*******-------

Devotional Poems On God In Hindi
 
भगवान पर भक्ति कविताएँ हिंदी में

कविता को पढ़ने के बाद आपको कविता कैसी लगी अपने विचार हमारे साथ सांझा करें और हमें 

बताएँ कि हम अपनी कविताओं में और क्या सुधार ला सकते हैं : -

ईमेल: - blogbewafahoon@gmail.com


एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ

  1. उत्तर
    1. सोचता हूँ कि मैं क्या करूंगा,
      आपका शुक्रियादा किस तरह करूंगा,
      तवज्जो जो दी है आपने मेरी लिखावट,
      मौक़ा मिला तो आपके लिए कुछ अच्छा करूंगा |

      ब्लॉग बेवफ़ा हूँ |
      यशु जान जालंधरी |

      हटाएं